Top Chinese Nuclear Scientist Zhang Zhijian Jumps To Death In Mysterious Circumstances

चीन के शीर्ष परमाणु वैज्ञानिकों में से एक और हार्बिन इंजीनियरिंग विश्वविद्यालय के उपाध्यक्ष, झांग झिजियान की रहस्यमय परिस्थितियों में मौत हो गयी है। चाइनीज न्यूक्लियर सोसाइटी के उपाध्यक्ष झांग झिजियान गुरुवार को मृत पाए गए।

टेलीग्रा पर हमसे जुड़ें

साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट (SCMP) ने सूचना दी कि हेइलोंगजियांग की राजधानी में स्थित विश्वविद्यालय ने कहा है कि पुलिस ने मौत में किसी प्रकार की हत्या सम्बंधित बात का खंडन किया है| क्योंकि साईट पर जांच के बाद ऐसे कोई सुराख़ नहीं मिले जिसे इसे हत्या कहा जाये।

“हार्बिन इंजीनियरिंग यूनिवर्सिटी ने बयान में यह कहा है कि प्रोफेसर झांग झिजियान एक इमारत से गिर गए जिसके कारण 17 जून, 2021 को सुबह 9.34 बजे उनकी मृत्यु हो गई।”

“विश्वविद्यालय कॉमरेड झांग झिजियन के निधन पर गहरा दुख व्यक्त करता है और उनके परिवार के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त करता है।”

शीर्ष चीनी परमाणु वैज्ञानिक झांग झिजियान ने रहस्यमय परिस्थितियों में छलांग लगाई

झांग की मौत के बारे में कोई अन्य आधिकारिक बयान नहीं आया हालाँकि उनका नाम शुक्रवार को विश्वविद्यालय की वेबसाइट की नेतृत्व सूची में मौजूद  रहा।

झांग विश्वविद्यालय में कॉलेज ऑफ न्यूक्लियर साइंस एंड टेक्नोलॉजी में प्रोफेसर और चाइनीज न्यूक्लियर सोसाइटी के उपाध्यक्ष थे। वह विश्वविद्यालय में कम्युनिस्ट पार्टी कमेटी की स्थायी समिति के सदस्य भी थे।

2019 में, शोधकर्ता को परमाणु ऊर्जा सिमुलेशन और सुरक्षा अनुसंधान में उनके योगदान के लिए राज्य के स्वामित्व वाले चाइना नेशनल न्यूक्लियर कॉर्पोरेशन द्वारा चीन के परमाणु कार्यक्रम के जनक के तौर पर उन्हें  ‘कियान सैनकियांग टेक्नोलॉजी’ अवार्ड से सम्मानित भी किया गया था।

पिछले मई में, उन्हें वैज्ञानिक इनोवेशन में उत्कृष्टता के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार भी मिला था, जोकि केंद्र सरकार द्वारा समर्थित सम्मान है।

उनकी मृत्यु से दो दिन पहले विश्वविद्यालय ने घोषणा की कि 41 वर्षीय यिन जिंगवेई, अंडरवाटर अकाउस्टेड इंजीनियरिंग कॉलेज के पूर्व डीन, को नया उपाध्यक्ष नियुक्त किया गया है।

विश्वविद्यालय उन दो चीनी विश्वविद्यालयों में से एक था, जिनका सेना के साथ घनिष्ठ संबंध था, जिन्हें पिछले जून में चीन और संयुक्त राज्य अमेरिका के बीच प्रौद्योगिकी पर तनाव के कारण अमेरिका द्वारा विकसित एक कंप्यूटर सॉफ्टवेयर प्लेटफॉर्म का उपयोग करने से प्रतिबंधित कर दिया गया था|

अमेरिकी वाणिज्य विभाग ने एक साल पहले विश्वविद्यालय और हार्बिन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी को अपनी “इकाई सूची” में जोड़ा था।

विभाग ने कहा कि हार्बिन इंजीनियरिंग विश्वविद्यालय ने “पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के कार्यक्रमों के समर्थन में अमेरिकी मूल की वस्तुओं” का अधिग्रहण किया और उन्हें  हासिल करने का प्रयास भी किया।

Read this article in English on GreatGameIndia.

लोकप्रिय लेख