Secret Docs Reveal Moderna Sent Coronavirus Vaccine To North Carolina University Weeks Before Pandemic

गोपनीय दस्तावेजों से पता चला है कि covid  वैक्सीन  को मॉडर्ना से उत्तरी कैरोलिन विश्वविद्यालय में स्थानांतरित किया गया था|और यह सब 2019 में, कोविड -19 महामारी के 19 दिन पहले किया गया था।

टेलीग्रा पर हमसे जुड़ें

गोपनीय समझौते (नीचे पढ़ें) में कहा गया है कि  ‘मॉडर्ना’ ‘नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एलर्जी एंड इंफेक्शियस डिजीज’ (एनआईएआईडी) के साथ ‘एमआरएनए कोरोनावायरस वैक्सीन कैंडिडेट्स’ को विकसित करने और संयुक्त रूप से एनआईएआईडी और मॉडर्ना के स्वामित्व वाले 12 दिसंबर 2019 को  यूनिवर्सिटी’चैपल हिल में उत्तरी कैरोलिना  को ट्रांसफर करने के लिए सहमत हुए।

सीक्रेट डॉक्स से पता चलता है कि मॉडर्न ने महामारी से पहले उत्तरी कैरोलिना विश्वविद्यालय के लिए कोरोनवायरस वायरस भेजा था
यह हमें समझौते के पेज 105 पर मिला

सामग्री हस्तांतरण समझौते पर दिसंबर 12th 2019 पर राल्फ बारिक, जोकि पीएचडी, चैपल हिल में उत्तरी कैरोलिना विश्वविद्यालय के द्वारा हस्ताक्षर किए गए थे| और फिर 16 दिसंबर 2019 को उत्तरी कैरोलिना विश्वविद्यालय में लाइसेंसिंग और इनोवेशन सपोर्ट के निदेशक जैकलीन क्वे द्वारा हस्ताक्षर किए गए थे।

समझौते पर NIAID के दो प्रतिनिधियों ने भी हस्ताक्षर किए, जिनमें से एक एमी एफ. पेट्रिक पीएचडी, एक प्रौद्योगिकी हस्तांतरण विशेषज्ञ थे, जिन्होंने 12 दिसंबर 2019 को सुबह 8:05 बजे समझौते पर हस्ताक्षर किए।

अन्य हस्ताक्षरकर्ता बार्नी ग्राहम एमडी पीएचडी थे, जो एनआईएआईडी के एक अन्वेषक थे, हालांकि इस हस्ताक्षर में तारीख नहीं पड़ी थी।

समझौते पर अंतिम हस्ताक्षर करने वालों में मॉडर्ना के अन्वेषक सनी हिमांशु और मॉडर्न के डिप्टी जनरल काउंसिल शॉन रयान थे। दोनों ही  हस्ताक्षर 17 दिसंबर 2019 को किये गए थे।

ये सभी हस्ताक्षर कोरोनवायरस के बारे में  किसी भी प्रकार की जानकारी से पहले किए गए थे। यह 31 दिसंबर 2019 तक नहीं था यह वह तारीख थी जब विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) को चीन के वुहान में वायरल निमोनिया के मामलों के एक कथित समूह के बारे में पता चला था।

लेकिन इस बिंदु पर भी उन्होंने यह निर्धारित नहीं किया था कि यह कोरोनावायरस था, बजाय इसके कि निमोनिया का यह एक  “अज्ञात कारण” था।

यह सब 9 जनवरी 2020 तक भी नहीं था| और ना ही डब्ल्यूएचओ ने  चीनी अधिकारियों को यह निर्धारित किया यह सब  नॉवेल कोरोनावायरस के कारण था| जोकि  बाद में SARS-CoV-2 के रूप में जाना जाने लगा, जिसके परिणामस्वरूप COVID-19 नामक बीमारी हुई।

तो मॉडर्ना द्वारा विकसित एक mRNA कोरोनावायरस वैक्सीन उम्मीदवार को 12 दिसंबर 2019 को उत्तरी कैरोलिना विश्वविद्यालय में क्यों स्थानांतरित किया गया?

शायद मॉडर्न और नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एलर्जी एंड इंफेक्शियस डिजीज खुद को अदालत में समझाना चाहेंगे।

अमेरिकी सांसदों ने पहले ही एंथोनी फौसी को COVID-19 के संबंध में गलत सूचना देने और वायरस की उत्पत्ति को छिपाने के इरादे से बर्खास्त करने के लिए  फायर फौसी अधिनियम पेश किया है।

फायर फौसी अधिनियम फौसी के वेतन को $0 तक कर देगा और उनके पद को भरने के लिए सीनेट की पुष्टि की आवश्यकता होगी।

नीचे गोपनीय दस्तावेज पढ़ें:

गुप्त-दस्तावेज़-प्रकट-आधुनिक-भेजे गए-कोरोनावायरस-वैक्सीन-से-उत्तर-कैरोलिना-विश्वविद्यालय-सप्ताह-पहले-महामारी

Read this article in English on GreatGameIndia.

लोकप्रिय लेख