34 Women In US Suffered Miscarriages And Stillbirths After Taking COVID-19 Vaccine

वैक्सीन एडवांस इवेंट रिपोर्टिंग सिस्टम (VAERS) की एक रिपोर्ट के अनुसार, COVID-19 टीकाकरण के तुरंत बाद  34  गर्भवती महिलाओं के गर्भपात या मृत बच्चे पैदा होने की घटना सामने आई है  ।

VAERS की रिपोर्ट के अनुसार   महिलाओं के साथ  ऐसी विपरीत घटनाएँ टीकाकरण के तुरंत  बाद सामने आई हैं| VAERS  एक passive रिपोर्टिंग प्रणाली है जो लोगों को टीकाकरण के बाद की  ऐसी विपरीत घटनाओं की रिपोर्ट प्रस्तुत करने की सुविधा प्रदान करती है। VAERS रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (CDC) और खाद्य एवं औषधि प्रशासन (FDA) द्वारा चलाया जाता है।

हालांकि ऐसा जरूरी नहीं है कि VAERS को सूचित सभी प्रतिकूल घटनाएं टीकाकरण के कारण ही हुई  हैं। VAERS गर्भपात (miscarriage) को सहज गर्भपात(abortion) के रूप में दर्शाता है।

सहज गर्भपात के 25 मामले पहली तिमाही में हुए और  इन सभी  महिलाओं को Pfizer-BioNTech वैक्सीन द्वारा टीका लगाया गया था। मृत बच्चा पैदा होने के 4 मामलों का पता दूसरी या तीसरी तिमाही में चला।

स्वास्थ्य संबंधी मुद्दों पर रिसर्च में ऑनलाइन संसाधन के अनुसार जिसका नाम ‘वेरी वेल हेल्थ’ है: के “शोध से पता चलता है कि 10% से 20%  गर्भावती महिलाओं का गर्भपात हो जायेगा। इनमें से अस्सी प्रतिशत पहली तिमाही के दौरान होगा। ”

दो अलग-अलग मामलों में टेनेसी और इंडियाना की महिलाओं को Pfizer का टीका लगने के बाद क्रमशः 13 और 5 दिनों के भीतर गर्भपात का सामना करना पड़ा।

मिशिगन और वर्जीनिया में इसी तरह के मामले सामने आए थे जब गर्भवती महिलाओं को Pfizer का टीका लगाया गया था।

डॉ. शेली कोल, एमडी, एक ओबी-जीवाईएन जोकि अमेरिका की जनि मानी डॉक्टर हैं उनके अनुसार-:

“प्रसूति-स्त्री रोग विशेषज्ञ के रूप में, यह एक चिंता का विषय है“ कि हम विज्ञान और वैज्ञानिक चिकित्सा पद्धति खिड़की से बाहर फेंककर और गर्भधारण और भविष्य की गर्भधारण को खतरे  को मोल ले रहे हैं। ”

कोल ने कहा, “मुझे चिंता है कि CDC कहता है कि कोई अध्ययन नहीं है, लेकिन फिर भी  इसका इस्तेमाल  करना ठीक है और आपको इसके बारे में अपने डॉक्टर से चर्चा करने की भी आवश्यकता नहीं है।” “मेरा मतलब है कि यह सब कुछ  वैज्ञानिक मॉडल और तरीके के बिलकुल विपरीत हैं , और जबकि दशकों से हम इसी चिकित्सा पद्दति का पालन करते आ रहे हैं और आज जो कुछ भी हो रहा है यह सब चिकिस्ता के नियमों के खिलाफ है ।”

CDC का कहना है कि “गर्भवती या स्तनपान कराने वाली महिलाओं  के लिए टीकाकरण संबंधी विचार चल रहा है ।”

चूँकि “स्तनपान कराने वाले शिशु पर या हल्के उत्पादन / उत्सर्जन पर mRNA के टीकों के प्रभाव” के संबंध में कोई डेटा उपलब्ध नहीं है, फिर भी टीका “स्तनपान करने वाले शिशु के लिए जोखिम नहीं माना जाता है।”

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने यह कहा  गर्भवती महिलाओं के लिए Pfizer COVID-19 वैक्सीन की सिफारिश नहीं करता है जब तक कि उन्हें बहुत ज्यादा दिक्कत ना हो या फिर वह किसी खतरे वाली जगह पर हों , जैसे कि स्वास्थ्य देखभाल के लिए नर्स।

WHO कहता है कि “गर्भवती महिलाओं को गैर-गर्भवती महिलाओं की तुलना में COVID ​​-19 का अधिक खतरा होता है, और COVID​​-19 पूर्व-जन्म के बढ़ते जोखिम के साथ जुड़ा हुआ है,”। “हालांकि, अपर्याप्त आंकड़ों के कारण, डब्ल्यूएचओ इस समय गर्भवती महिलाओं के टीकाकरण की सिफारिश नहीं करता है।”

गर्भवती महिलाओं के लिए कोई सटीक डेटा उपलब्ध नहीं होने का कारण यह है भी है कि Pfizer और Moderna दोनों ने गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं पर COVID-19 वैक्सीन के नैदानिक ​​परीक्षण नहीं किए।

हालांकि, Pfizer अब गर्भवती महिलाओं पर दूसरे और तीसरे चरण के परीक्षणों का आयोजन कर रहा है जो उनकी दूसरी या तीसरी तिमाही में हैं।

डॉ. डेनिस जैमीसन, एमडी, एमपीएच, एमोरी यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन में स्त्री रोग और प्रसूति विभाग के अध्यक्ष कहते हैं:

“मुझे लगता है कि  इस सभी चीजो में  वास्तव में  जो महत्वपूर्ण है वो ये कि , क्योंकि हम सोचते हैं कि लाभ जोखिमों से आगे निकल जाते हैं, लेकिन जोखिमों का वर्णन करने के मामले में  हमें इन्हें  भूलना नहीं चहिये” |

“और मुझे लगता है कि मुझे इस बात की चिंता है कि आप जानते हैं, 15,000 महिलाओं को टीका लगाया गया है, गर्भवती महिलाओं  को टीका लगाया गया है, और फिर भी हमारे पास वास्तव में बहुत कम सुरक्षा जानकारी है और यह बिल्कुल ठीक नहीं है।”

इंटरमाउंटेन हेल्थकेयर डॉक्टरों के अनुसार जिन महिलाओं को हाल ही में  COVID-19 का टीका लगाया गया था  उनमें साइड-इफेक्ट के रूप में स्तन कैंसर के लक्षण दिख सकते हैं

विस्कॉन्सिन की एक अमेरिकी  महिला डॉक्टर, डॉ. सारा बेल्ट्रान पोंस को COVID 19  के टीकाकरण के बाद गर्भपात का सामना करना पड़ा ।

अभी तक एक अन्य मामले में, ए राजस्थान की महिला ने 5 महीने में 31 बार COVID -19 पॉजिटिव का परीक्षण किया  जिसने  डॉक्टरों को भी सोचने पर मजबूर कर दिया है । ऐसे परिणाम सामने आने के बाद यह इस बात पर सवाल खड़े करते हैं जिसमे यह कहा गया की वायरस 14 दिन के भीतर नष्ट हो जाता है ।

हाल ही में, बुजुर्ग की मौत जो कि वायरस ग्रसित होने बाद रिकवरी कर चुके थे और टीकाकरण के बाद उनकी मौत हो गयी, ऐसी घटनाएँ इस व्यवस्था पर सवाल खड़े करती हैं।

इसके अलावा, शोधकर्ताओं के एक समूह The Lancet medical journal ने चेतावनी दी है कि वर्तमान में चल रहे  COVID-19 टीके एचआईवी के जोखिम को बढ़ा सकते हैं, संभवतः यह  संक्रमण में वृद्धि के लिए जिम्मेदार होगा ।

इस बीच, अमेरिकी संघीय अधिकारी जांच कर रहे हैं COVID-19 वैक्सीन प्राप्तकर्ता जिन्होंने दुर्लभ रक्त विकार थ्रोम्बोसाइटोपेनिया विकसित किया, कम से कम कई मामलों के परिणामस्वरूप मौत हुई।

Read this article in English on GreatGameIndia.

लोकप्रिय लेख